---Advertisement---

मुहर्रम त्योहार को लेकर ताजिया के चौकों पर बजने लगे ढोल-ताशे

By Md.shamim Ansari

Published on:

---Advertisement---

दुद्धी, सोनभद्र (एम.एस.अंसारी)। स्थानीय कस्बे व आसपास के ग्रामीण अंचलों में मुहर्रम पर्व की तैयारियां शुरू हो गई है। कर्बला व चौकों की साफ-सफाई के काम में लोग मशगुल हो गए हैं। ताजिया स्थापित होने वाले चौकों पर बकरीद त्योहार बीतने के दूसरे दिन से ही मोहर्रम के ढोल-ताशे बजाकर लाठी-डंडा, तलवार, गड़ासा से युध्द कला प्रदर्शन अभ्यास शुरू हो गए हैं।

बुधवार 19 तारीख को चांद नजर आने की दशा में 10 दिनों तक मोहर्रम का कार्यक्रम संपन्न कराया जाएग। पांचवी तारीख को नगर के साह चौके की मिट्टी कोड़ाई व केला कटाई, सप्तमी की शाम कर्बला पर भारी संख्या में महिला-पुरुष अकीदतमंद पहुंच फातेहा दिलाते हैं। रात में समस्त चौकों की मिट्टी कोड़ाई व केला कटाई का कार्यक्रम संपन्न कराया जाता है। अष्टमी को छोटी ताजिया व नवमी को बड़ी ताजिया चौकों पर स्थापित की जाती है। दशमी को कर्बला में ताजिया दफन होती हैं। नगर के जुगनू चौक पर सबसे बड़ी ताजिया बनाई जाती है। दुद्धी कस्बे में खजूरी में चार, कलकली बहरा में 3, रामनगर में दो, वार्ड नंबर 11 में 3, मलदेवा गांव में तीन, जुगनू चौक पर दो, साह चौक व मीर मोहल्ला पर 1-1, दुमहान गांव से 9 तथा मन्नत वाले कुल 7-8 ताजिया मिलाकर कुल लगभग छोटी बड़ी 30-35 ताजिया हो जाती है। इसके अलावा खजूरी की दो रामनगर की एक सीपड़ भी मुहर्रम के अष्टमी व नवमी के जुलूस में शामिल होती है। मोहर्रम के जुलूस में कुल 60 जगहों से छोटे बड़े अलम झंडे आते हैं।
कस्बे के वरिष्ठ उस्ताद अलीरजा हवारी ने बताया कि आज से 14 सौ साल पहले इराक में एक याजीद नाम का एक जालिम बादशाह जो इंसानियत का दुश्मन था। खुद को मुसलमानों का रहनुमा मानता था। उसके अंदर दुनिया की हर बुराई भरी हुई थी। वह चाहता था कि इमामे हुसैन अपना रहनुमा हमें मान लें। इमाम हुसैन को यह मंजूर नहीं था। उन्होंने अत्याचार जुल्म के खिलाफ आवाज उठाया तो यजीद को नागवार लगा और उसने इमाम हुसैन और उनके 72 साथियों को कैद कर लिया। 3 दिन भूखा प्यासा रखकर कर कत्ल कर डाला। यजीद ने सोचा कि अब पूरी दुनियां हमें अपना खलीफा तस्लीम करेगी लेकिन ऐसा नहीं हुआ। हुसैन कत्ल होकर भी जीत गए और यजीद जीत कर भी हार गया। इसी याद को ताजा करने के लिए मोहर्रम की 10 तारीख को ताजिया जुलूस निकालकर इमाम हुसैन की याद मनाई जाती है। दुनियां को यह पैगाम दिया जाता है कि जुल्म सहो नहीं बल्कि जुल्म खिलाफ आवाज उठाओ, जीत हक की होती है।

Md.shamim Ansari

मु शमीम अंसारी कृषि स्नातकोत्तर (प्रसार शिक्षा/जर्नलिज्म) इलाहाबाद विश्वविद्यालय (उ.प्र.)

---Advertisement---
Follow On WhatsApp
Follow On Telegram
BREAKING NEWS
श्रीमद्भागवत कथा के चौथे दिन बावन भगवान का रोचक प्रसंग सुन भावविभोर हुए श्रोता उत्सव ट्रस्ट के गैरैया संरक्षण अभियान को मिला जगद्गुरु श्री रामभद्राचार्य जी का आशीर्वाद भक्तों की आस्था का केंद्र शक्तिपीठ मां शीतला धाम डॉ भीमराव अम्बेडकर जयंती समारोह और एक दिवसीय वाम व जनवादी कार्यकर्ता सम्मेलन 15 को आकाशीय बिजली के चपेट में आने से एक महिला की मौत नव दिवसीय कथा के तीसरे दिन शिव पार्वती विवाह एवं शिव चरित्र का अलौकिक वर्णन उत्तर प्रदेश में धनगर अनुसूचित जाति नहीं - दारापुरी अनपरा निवासी युवक से एचडीएफसी बैंक अधिकारी बन लोन देने के नाम पर किया ठगी लोकसभा चुनाव के मद्देनजर म्योरपुर पुलिस ने किया एरिया डोमिनेशन राबर्ट्सगंज सुरक्षित लोकसभा से घनेश्वर गौतम ठोकेंगे ताल मिला टिकट
Download App