सोनभद्र

कमल, साइकिल व हाथी के तिकड़ी में दुद्धी की सीट

हाथी ने बढ़ाई सबकी मुश्किलें, दो दिग्गजों की प्रतिष्ठा लगी दांव पर

दुद्धी, सोनभद्र। प्रदेश की अंतिम विधानसभा सीट 403 दुद्धी पर सभी पार्टियों द्वारा अपने प्रत्याशियों के पत्ते खोले जाने के बाद मुकाबला दिलचस्प हो गया है।
भाजपा गठबंधन अपनादल (एस) के वर्तमान विधायक हरीराम चेरो ने अचानक पाला बदलकर सबको हैरत में डाल दिया। उन्होंने बसपा की सदस्यता ग्रहण करके चुनावी गणितज्ञों के सारे समीकरण फेल कर दिये।अबतक लोग समाजवादी पार्टी और भाजपा गठबंधन के बीच ही सीधा मुकाबला का कयास लगा रहे थे, जो अब बदलता नजर आ रहा है। बहुजन समाज पार्टी को लड़ाई से अलग मानने वाले भी विधायक हरीराम चेरो को प्रत्याशी बनाये जाने के बाद अब इसे त्रिकोणात्मक मुकाबले के रूप में देखने लगे हैं। इस सीट पर सबसे पहले समाजवादी पार्टी ने सबसे सशक्त दावेदार पूर्व मंत्री विजय सिंह गोंड को अपना प्रत्याशी घोषित कर, विपक्ष की नींद उड़ा दी थी। भाजपा गठबंधन, बसपा, कांग्रेस समेत अन्य पार्टियां विजय सिंह के खिलाफ मजबूत प्रत्याशी के चयन में फूंक फूंक कर कदम रखते हुए,अपने अपने प्रत्याशियों के पत्ते खोले हैं। खासकर भाजपा गठबंधन एवं बसपा ने नामांकन के अंतिम दौर में अपने प्रत्याशियों के नाम घोषित कर, सबकी संभावनाओं और अटकलों पर पूर्ण विराम लगा दिये। दोनों पार्टियों ने जनचर्चा एवं अपेक्षाओं के विपरीत अपने प्रत्याशियों के नाम की घोषणा कर, सबको अचंभित कर दिया। बसपा ने बड़ा दांव खेलते हुए भाजपा गठबंधन अपनादल एस के वर्तमान विधायक हरीराम चेरो को अपना प्रत्याशी घोषित कर सबको चौका दिया। वहीं भाजपा ने दुद्धी की विजयी सीट को अपनादल के खाते से वापस लेकर अपने प्रत्याशी नया चेहरा रामदुलार गोंड़ को मैदान में उतारा है। अब यह चुनाव त्रिकोणात्मक हो गया है और दो दिग्गजों की प्रतिष्ठा दांव पर लगी है। जिसमें सात बार के विजेता पूर्व मंत्री विजय सिंह गोंड एवं वर्तमान विधायक हरिराम चेरो शामिल हैं। वर्ष 2017 के चुनाव में भाजपा गठबंधन अपनादल के प्रत्याशी हरीराम ने पहली बार बसपा प्रत्याशी विजय सिंह को पराजित कर, उनके अजेय क्रम को तोड़ा था। आज परिस्थितियां, पार्टी और प्रत्याशी सभी भिन्न भिन्न हैं।
पिछले चुनाव में विजय सिंह बसपा प्रत्याशी थे, इस चुनाव में हरीराम चेरो बसपा प्रत्याशी हैं। वहीं विजय सिंह इस बार सपा प्रत्याशी के रूप में सामने हैं। जब श्री चेरो ने श्री गोंड को शिकस्त दी थी तब प्रदेश समेत पूरे देश में मोदी योगी की लहर पूरे शबाब पर थी। आज समय और परिस्थितियां सब अलग हैं, किसी भी पार्टी या प्रत्याशी के लिए यह चुनाव एकतरफा व आसान नही होगा। जबकि कांग्रेस ने पूर्व सांसद रामप्यारे पनिका की पत्नी बसंती पनिका पर दांव खेला है। जातीय आंकड़ा व जनमत की बात करें तो सपा प्रत्याशी के खिलाफ सर्वाधिक जनसंख्या वाले गोंड़ बिरादरी पर ही भाजपा ने भी दांव खेला है। इस खेल में किसे कितना फायदा होगा यह तो भविष्य के गर्भ में है।लेकिन मुकाबला दिलचस्प व त्रिकोणीय होना तय है।

Md.shamim Ansari

मु शमीम अंसारी कृषि स्नातकोत्तर (प्रसार शिक्षा/जर्नलिज्म) इलाहाबाद विश्वविद्यालय (उ.प्र.)

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
श्रीराम कथा के अंतिम दिन रावण बध लँका पर विजय अयोध्या वापसी के बाद जश्न में डूबे श्रोता डीजे के साथ शांतिपूर्ण माहौल में विसर्जित हुई मां दुर्गा की प्रतिमाएं बकरिहवाँ में अधर्म पर धर्म की विजय राम ने किया रावण वध अधर्म पर धर्म की विजय राम ने किया रावण का वध घर की बढेर से लटकता मिला वृद्धा का शव बलिया शहर कोतवाल प्रवीण सिंह भारी बरसात में भीगते हुये वर्दी का फर्ज निभा श्रद्धालुओं की मदद करते नज... नौ कन्या पूजन, हवन पूर्णाहुति के साथ नवरात्रि अनुष्ठान हुआ सम्पन्न चोरों ने दो खड़े ट्रैक्टर से गायब किये बैटरी पिपरी में भव्य गरबा कार्यक्रम की रही धूम आदि शक्ति सिद्धिदात्री की प्रतिमा की हुई प्राण प्रतिष्ठा