Close

राम सुग्रीव मित्रता व लंका दहन की लीला देख दर्शक हुये भाव विभोर

म्योरपुर/सोनभद्र(विकास अग्रहरि) राम सुग्रीव मित्रता व लंका दहन की लीला देख दर्शक हुए भाव विभोर म्योरपुर में चल रहे रामलीला मंचन के आठवें दिन सीता हरण रावण द्वारा माता सीता का हरण के बाद श्री राम भाई लक्ष्मण के साथ माता सीता को खोजते हुए रिसमुख पर्वत पहुंचते हैं जहां हनुमान जी द्वारा प्रभु श्रीराम से परिचय पूछा जाता है परिचय पूछ हनुमान जी सुग्रीव जी के पास प्रभु श्री राम को लेकर जाते है श्रीराम द्वारा एक ही बाढ में 7 तार का वृक्ष गिरा गिरा दिया जाता हैं यह देख सुग्रीव जी का शंका मिटता है श्रीराम द्वारा रिसमुख पर्वत पर रहने का कारण पूछते है सुग्रीव बताते हैं मेरा भाई बाली मेरे पत्नी को हरण कर मुझे अपने राज्य से निकाल दिया है तब प्रभु सुग्रीव को बाली से युद्ध करने के लिए बोलते हैं बालों से युद्ध होता है इसी दौरान प्रभु श्रीराम द्वारा बाली पर बाढ़ चला देते हैबाली द्वारा अंगद को प्रभु श्री राम को सौंपा जाता है श्री राम द्वारा सुग्रीव का राज्यभिषेक किया जाता है राज्य पाठ पास सुग्रीव माता सीता की खोज करने को भूल जाते हैं तथा 6 माह बीत जाने के बाद लक्ष्मण जी जाकर सुग्रीव को अदा करते हैं लक्ष्मण जी के पहुंचने के बाद सुग्रीव तुरंत अपने सेना के साथ चारों दिशा में माता सीता के खोज में बांदरी सेना भेजते है हनुमान जी सौ योजन समुद्र लांग लंकापुरी को जाते हैं जहां अशोक वाटिका में माता सीता बैठे मिलती हैं मौका देखकर हनुमान जी एक मुंदरीका माता के पास फेकते हैं सीता जी बोलती हैं यह तो मुंदरी मेरे प्रभु का है जो भी इसे दिया है तुरंत मेरे पास आए हनुमान जी सामने आकर अपना परिचय देते हैं इसी दौरान राक्षसों द्वारा हनुमान जी का युद्ध की होता है राक्षसों को हनुमान जी मार देते हैं धामण नामक एक राक्षस रावण दरबार में जाकर अशोक वाटिका में उत्पाद की स्थिति रावण को बताता है रावण द्वारा अक्षय कुमार को हनुमान जी को पकड़ने के लिए भेजा जाता है अक्षय कुमार व हनुमान जी का युद्ध होता है एक ही गधा से अक्षय कुमार को हनुमान जी यमलोक की सैर करा देते हैं अक्षय कुमार की मौत की खबर मिलते ही रावण तुरंत अशोक अशोक वाटिका में मेघनाथ को भेजता है मेघनाथ जाकर हनुमान जी से युद्ध करता है जब मेघनाथ युद्ध नहीं जीत पाता है तो ब्रह्मास्त्र का प्रयोग कर हनुमान जी को बांध रावण दरबार में ले जाता है जहां रावण द्वारा हनुमान जी को मृत्युदंड देने को कहा जाता है दरबार में मंत्रियों द्वारा रावण को सलाह दिया जाता है बंदर को सबसे ज्यादा मोह अपने पुछ से होती है क्यों ना पूछ में आग लगा दिया जाए यह सुन रावण हनुमान जी के पूंछ में आग लगवा देता है पूछ में आग लगा दे हनुमान जी क्रोधित हो जाते हैं तथा पूरे लंकापुरी में आग लगा लंका को राख कर देते हैं लीला देख दर्शक भाव विभोर हुए वही म्योरपुर ग्राम प्रधान संगीता गणेश जायसवाल व अपने 15 सदस्यों के साथ रामलीला स्टेज पर श्री राम वह लक्ष्मण जी को माल्यार्पण करती हैं आशीर्वाद लेती है इस दौरान कमेटी के महाप्रबंधक गौरी शंकर सिंह अध्यक्ष जितेंद्र गुप्ता उपाध्यक्ष पंकज सिंह कोषाध्यक्ष अशोक मिश्रा,मण्डली के ब्यास आशीष अग्रहरि बिट्टू जी,अजय सोनू,अनिल अग्रहरि,अंकित कुमार,रामु,श्यामू, प्रकाश, आदि पात्र मौजूद रहे।

BREAKING NEWS
वनाधिकार कानून के तहत जमीन पर अधिकार दे सरकार - आइपीएफ मिट्टी का ढूहा ढहा 2 की मौत शौचालय, आवास, बिजली उपलब्ध कराई तथा दवाई, सिंचाई व पढ़ाई मुफ्त- उपेंद्र तिवारी म्योरपुर विकासखंड अंतर्गत फसल प्रदर्शनी का किया गया आयोजन टीका और मुट्ठी भर अनाज का ढिंढोरा पीट गरीब का उपहास उड़ा रही बीजेपी सरकार-विजय सिंह गोंड नवनिर्वाचित प्रधानो का एक दिवसीय अनवासीय हुआ प्रशिक्षण अजीरेश्वर धाम मंदिर जरहा में 3 फरवरी को होगा सामूहिक विवाह रजिस्ट्रेशन के लिये करे सम्पर्क प्रधानमंत्री के महत्वपूर्ण योजना स्वच्छ व सुंदर गांव देश के तहत नवनिर्मित सामुदायिक शौचालय का हुआ शु... दुद्धी में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा की हो व्यवस्था- आइपीएफ हिण्डाल्को में तीन दिवसीय सड़क सुरक्षा प्रशिक्षण शिविर का आयोजन
scroll to top