Close

हमारी योजना हमारा विकास” नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों का एक दिवसीय परिचयात्मक प्रशिक्षण का हुआ आयोजन

चोपन/सोनभद्र (गुड्डू मिश्रा) “हमारी योजना हमारा विकास” नवनिर्वाचित ग्राम प्रधानों का एक दिवसीय परिचयात्मक प्रशिक्षण का आयोजन क्षेत्र पंचायत चोपन सभागार में पंचायती राज विभाग के द्वारा आयोजित की गई। इसके प्रायोजक पंचायती राज प्रशिक्षण संस्थान एवं राष्ट्रीय ग्राम स्वराज अभियान रहे। परिचयात्मक प्रशिक्षण खण्ड विकास अधिकारी सुनील कुमार सिंह ने सरकार द्वारा जारी योजनाओं के बारे में विस्तृत जानकारी दिया। संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार एवं डेंगू जैसी बीमारी के प्रति लोगों को जागरूक करना हमारी प्राथमिकता है। आशा एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ती गांव-गांव जाकर लोगो को क्षय रोग व संचारी रोग के बारे में विस्तृत जानकारी देंगी। जिसके लिए सभागार में प्रशिक्षण का आयोजन किया जा रहा है।

क्षय रोग या टीबी के बारे में एसटीएलस विजय सिंह द्वारा प्रधानों आशा एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ती को एक दिवसी ट्रेनिंग दी गई। इस दौरान उन्होंने बताया कि, 2 हफ्तों से ज्यादा की खांसी टीबी की पहचान है। यदि किसी व्यक्ति को 2 हफ्ते से ज्यादा समय से शाम को बढ़ने वाला बुखार आता हो और बलगम खून आता हो, लगातार वजन कम हो रहा हो, भूख नहीं लगती हो, सीने में दर्द रहता हो, तो यह भी टीबी के लक्षण हो सकते हैं। शीघ्र ही बलगम की जांच करानी चाहिए। बलगम की जांच हर सरकारी अस्पताल में मुफ्त होती है। टीबी रोग का मुख्य कारण कीटाणु होते हैं, मुख्य रूप से फेफड़े प्रभावित होते हैं, परंतु टीबी शरीर के किसी भी अंग में हो सकता है। फेफड़ों की टीबी से पीड़ित व्यक्ति के खांसने में या छीकने से टीवी फैलती है। बलगम जांच में टीबी की पुष्टि होने पर टीबी का पूरा इलाज मुफ्त में किया जाता है। टीबी पूरी तरह से ठीक हो सकती है, यदि इसका इलाज निश्चित अवधि तक नियमित रूप से दवा लेते हुए पूरा किया जाए। सामान्य टीबी का इलाज 6 से 8 महीने तक चलता है। टीबी रोगी को अस्पताल में भर्ती होने की आवश्यकता नहीं होती, घर पर ही इसका इलाज संभव है। अगर टीबी का पूरा इलाज नियमित रूप से ना कराए जाए तो टीबी बिगड़ कर एमडीआर टीबी हो जाता है, जिसका इलाज और मुश्किल होता है, ज्यादा दवाई लेनी पड़ती हैं और वह भी 2 वर्षों तक इसलिए सामान टीबी का नियमित व पूरा इलाज लेना चाहिए। बगैर डॉक्टर की सलाह के इलाज के बीच में बंद नहीं करना चाहिए। टीबी के मरीजों के इलाज के दौरान पौष्टिक आहार के लिए सरकार द्वारा ₹500 प्रतिमाह की आर्थिक सहायता बैंक खातों के माध्यम से दी जाती है। खांसी के मरीजों को खांसते समय मुंह पर रुमाल या कपड़ा रखना चाहिए। जहां- तहां थूकना नहीं चाहिए। टीबी मरीजों में एचआईवी संक्रमण की संभावना ज्यादा होती है, हर टीबी मरीज के निशुल्क एचआईवी की सुविधा की जांच सभी सरकारी चिकित्सालय पर उपलब्ध है। टीबी को फैलने से रोकने का बेहतर तरीका है- उसका जल्द से जल्द पूरा इलाज करना चाहिए। टीबी का पूरा इलाज कराएं। टीबी को फैलने से रोकें। टीबी मुक्त भारत के निर्माण में सहयोग करे।

वही रोहित सिंह ने बताया कि, संचारी रोगों तथा दिमागी बुखार प्रभाव नियंत्रण तथा इनका त्वरित एवं सही उठाएं उपचार सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता में से हैं। वर्ष 2020 में मार्च, जुलाई एवं अक्टूबर में विशेष संचारी रोग नियंत्रण दस्तक अभियान का आयोजन सभी जनपदों में हो चुका है विगत 3 वर्षों की भांति वर्ष 2021 में भी संचारी रोगों की रोकथाम हेतु व्यापक अभियान चलाया जा रहा है। इस क्रम में वर्ष 2021 में संचारी रोग अभियान (18 अक्टूबर से 17 नवंबर 2021) एवं दस्तक अभियान का तृतीय चरण (18 अक्टूबर 1 से 1 नवंबर 2021 तक) प्रदेश के समस्त 75 जनपदों में चलाते हुए वर्ष 2020 में संचालित की गतिविधियां पुनः विस्तृत कार्ययोजना बनाकर संचालित की जाएगी। फ्रंटलाइन वर्कर्स (आशा एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ती) निम्लिखित सूचियां अपनी रिपोर्ट के साथ प्रतिदिन कार्य की समाप्ति पर क्षेत्रीय ए0एन0एम के माध्यम से ब्लॉक मुख्यालय पर निर्धारित प्रपत्र में उपलब्ध कराएंगे- बुखार के रोगियों की सूची, आई0एल0आई0 (इन्फ्लूएंजा लाइक इलनेस) रोगियों की सूची, क्षय रोग के लक्षण युक्त व्यक्तियो की सूची और कुपोषित बच्चों की सूची। अभियान हेतु बनाई जाने वाली कार योजना में प्रत्येक गतिविधि हेतु निर्धारित लक्ष्यों का उल्लेख आवश्यक रूप से किया जाए तथा माह की समाप्ति के उपरांत राज्य मुख्यालय को प्रेषित रिपोर्ट में सभी उपलब्धियां निर्धारित लक्ष्यों के सापेक्ष प्रदर्शित की जाए। साफ-सफाई, कचरा निस्तारण, जल भराव रोकने तथा सुद्ध जल की व्यापक योजना बनाएं। जिससे जन-सामान्य तक सभी जानकारी की सुलभ उपलब्धता सुनिश्चित की जाए सके। इस दौरान मुख्य अतिथि लीलावती देवी ब्लॉक प्रमुख चोपन, खंड विकास अधिकारी सुनील कुमार सिंह, सहायक जिला राज पंचायत अधिकारी विशाल सिंह, सहायक विकास अधिकारी पंचायत सुनील पाल, ग्राम पंचायत अध्यक्ष राम सजीवन, मयंक सिंह, विजय सिंह, रोहित सिंह एवं विवेक बिंद के अलावा आशा एवं आंगनवाड़ी कार्यकर्ती मौजूद रही।

BREAKING NEWS
मिट्टी का ढूहा ढहा 2 की मौत शौचालय, आवास, बिजली उपलब्ध कराई तथा दवाई, सिंचाई व पढ़ाई मुफ्त- उपेंद्र तिवारी म्योरपुर विकासखंड अंतर्गत फसल प्रदर्शनी का किया गया आयोजन टीका और मुट्ठी भर अनाज का ढिंढोरा पीट गरीब का उपहास उड़ा रही बीजेपी सरकार-विजय सिंह गोंड नवनिर्वाचित प्रधानो का एक दिवसीय अनवासीय हुआ प्रशिक्षण अजीरेश्वर धाम मंदिर जरहा में 3 फरवरी को होगा सामूहिक विवाह रजिस्ट्रेशन के लिये करे सम्पर्क प्रधानमंत्री के महत्वपूर्ण योजना स्वच्छ व सुंदर गांव देश के तहत नवनिर्मित सामुदायिक शौचालय का हुआ शु... दुद्धी में बेहतर स्वास्थ्य सुविधा की हो व्यवस्था- आइपीएफ हिण्डाल्को में तीन दिवसीय सड़क सुरक्षा प्रशिक्षण शिविर का आयोजन आदिवासी समाज की भूमि लूटी जा रही है भाजपा सरकार में-विजय सिंह गोंड
scroll to top