सोनभद्र

पर्यूषण पर्व जैन संस्कृति एवं क्षमा का महानतम पर्व- के सी जैन (कैलाश चंद सिंघी)

अनपरा/सोनभद्र परम पावन पयूर्षण के इस महान पर्व पर अणुव्रत महासमिति के निवर्तमान राष्ट्रीय
उपाध्यक्ष केसी जैन ने अपनी अभिव्यक्ति में विगत वर्ष जाने अनजाने वश हुई त्रुटियों हेतु प्राणी मात्र से क्षमायाचना किया। उन्होने कहा कि पयूर्षण पर्व विशुद्ध रूप से धार्मिक पर्व है। इसका रूप लौकिक पर्वो से भिन्न है। जैन श्वेतांबर आठ दिन का पयूर्षण पर्व मनाते हुये त्याग, तपस्या, स्वाध्याय, उपवास, तप करते हुए संवत्सरी पर्व के समापन पर प्राणी मात्र से क्षमा याचना करते है। जैन दिगंबर समाज का उसी दिन से दस लक्षण पर्व शुरू होता है। पयूर्षण पर्व जैन परंपरा, संस्कृति व आत्मावलोकन का पर्व है।

के सी जैन ने बताया कि सभी जैन अनुयायी पयूर्षण पर्व पर आराधना करते हुए समभाव से अपने स्वयं का आत्मावलोकन करते हुए सालभर में प्रत्यक्ष अथवा अप्रत्यक्ष गलतियो के लिये अंतर्मन से चौरासी लाख योनियों के सभी जीवों से क्षमा याचना करके सहिष्णुता व मैत्री की अराधना को मजबूती प्रदान करते है। इस पर्व पर जैन श्रावक गण शुद्ध रूप से प्राणी मात्र के प्रति मन, वचन व काया के द्वारा हुई गलतियों को स्वीकारते हुये दूसरो की गलती को क्षमा प्रदान करते है। आज संपूर्ण विश्व में एक देश दूसरे देश व एक व्यक्ति दूसरे व्यक्ति की गलती को जरूर इंगित करता है। परंतु अपनी गलती को कतई स्वीकृत नहीं करता है। ऐसे प्रदूषित समय में इन पर्वो का महत्व और भी बढ़ जाता है। जहां संपूर्ण वायुमंडल में चारो तरफ ईर्ष्या,बैर,क्रोध,वैमनस्यता एवं अहंकार सरीखी मानवीय कमजोरियां पैर पसार रही हैं।
ऐसे पर्वो को मनाने की सार्थकता तभी सिद्ध होती है जब संपूर्ण राष्ट की जनता समाज मे व्याप्त उपरोक्त कमजोरियों का विसर्जन करे। पर्यूषण पर्व प्रेरणा है, तीर्थकर चेतना की शरण में जाने की। साधना है स्वयं के आत्मावलोकन। आत्मावलोकन करते हुये आत्मिक, नैतिक एवं चारित्रिक दृष्टि से उन्नत जीवन की ओर अग्रसर बनने एवं स्वयं के सुधरने का एक अवसर प्रदान करता है। यह पर्व व्यक्ति को मुर्छा, परमार्थ, आलस्य एवं भ्रम से बाहर लाकर उसे सच्चाई से परिचित कराता है। इस पर्व का मुख्य उद्देश्य अहिंसा परमो धर्म, क्षमा वीरस्य भूषणम की सार्थकता को सिद्ध करता है।

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
म्योरपुर ब्लॉक के आश्रम मोड मुर्धवा के बीच की सड़क होगी चौड़ी आश्रम मोड़ से आरवाई सिंह घाटी और जमतिहवा नाला तक सड़क चौड़ीकरण होगा। बिना मान्यता के स्कूल चलाने वालों की अब खैर नही-खण्ड शिक्षा अधिकारी इन्हरव्हिल क्लब दुद्धी द्वारा बच्चों को किया गया बैग वितरण रन्नू गांव में सड़क लेबल से नीचे बना बिना ढक्कन का नाली, हादसे का डर आकांक्षी जनपद के बावजूद शिक्षा-स्वास्थ्य सुविधाएं लचर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष के निधन से शोक की लहर उदयपुर घटना और जुमा की नमाज को लेकर प्रदीप सिंह चंदेल ने अनपरा मे फुट मार्च कर आपसी सौहार्द बनाये रख... दुष्कर्म के दोषी संदीप को उम्रकैद की सजा बजरग दल ने आतंकवाद का पुतला फूंका