प्रदेशसिंगरौलीसोनभद्र

सोनभद्र का “खंता बीच”जहां प्रकृति ने बिखेरे हैं अपने अनोखे रंग

दुद्धी, सोनभद्र।(मु0 शमीम अंसारी/भीम जायसवाल) सोनभद्र जिले के रिहन्द डैम के किनारे प्रकृति की गोद में बसा सोनभद्र का “खंता बीच” अपने कुदरती दृश्यों, प्राचीन धरोहरों व इतिहास को समेटे हुए खूबसूरत पर्यटन स्थल है। छुट्टियों के दिन हों या पिकनिक स्पॉट मनाने का, दोनों अवस्थाओं में यहाँ की सैर करना आपके लिए बेहतर विकल्प हो सकता है। उत्तर प्रदेश के सोनभद्र जिले में स्थित दुद्धी तहसील क्षेत्र के म्योरपुर ब्लॉक के गांव (पड़री) “खंता बीच” में प्राकृतिक दृश्य देख आपका मन मोह लेंगे।

हरी भरी पहाडिय़ां जो आपको हर जगह मिलेंगे जो इसकी खूबसूरती में ‘चार चांद’ लगाते हैं। सोनभद्र का यह खूबसूरत तट प्रकृति के अनूठे रंग में रंगा है। यहां आप नौका से मछलियां मारते हुए मछुआरे और इस ‘बीच’ मध्यम गति से टकराती सागर जैसे लहरें और शीतल हवाएं आपका मन मोह लेंगी। प्रतिदिन हजारों पर्यटकों की भीड़ देखने को मिल रही है। प्रशासन द्वारा अभी इस स्थान को पर्यटन स्थल घोषित नही किया गया है। जबकि यह बीच 1 जनवरी जैसे अवसर पर अच्छी भीड़ के साथ बनाकर खाने पीने वालों को देखा जा सकता है।

इस बीच तक जानने के लिए विशेष जानकारीम्योरपुर ब्लॉक मुख्यालय से 13 किमी दूर खंता जाने के लिए दो पक्की सड़कें है। हवाई पट्टी से आगे एक रास्ता गडिया होकर खंता जाता है और दूसरा हवाई पट्टी से परनी होकर बड़ाईडाड़ के रास्ते खंता पहुँचा जा सकता है। खंता तक पक्की सड़क है। केवल जलाशय किनारे पांच सौ मीटर पैदल का रास्ता है।

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
कनहर परियोजना निर्माण में हो रही देरी के लिए सरकार का लचर रवैया जिम्मेदार समाधान दिवस में आये 4 मामले, एक का हुआ निस्तारण नए कोर्ट की स्थापना सहित अन्य मांगो को लेकर दुद्धी बार एसोसिएशन का चार सदस्यीय प्रतिनिधिमंडल राज्यमं... अधिवक्ताओं ने दुद्धी को जिला बनाने को लेकर भरी हुंकार बालू परिवहन में लिप्त दो टिपर सीज धर्म परिवर्तन की अफवाह को लेकर प्रशासन हलकान आये दिन टेलर से लग रहे जाम को लेकर प्रदीप सिंह चंदेल ने एनसीएल खड़िया,दुद्धीचुआ के अधिकारियो को दिया ... औद्योगिक कल कारखानों में युवाओं को रोजगार की विधान सभा में विधायक ने उठाई आवाज वीआईपी रोड के बाद चोपन रोड पर अवैध अतिक्रमण को लेकर पीडब्ल्यूडी व नगर पंचायत ने नपाई कर लगाया निशान नाले में फँसी गाय को बचाने फरिस्ता बन पहुँचे