सोनभद्र

आयरन मैन की उपाधि प्राप्त एसओजी मे तैनात जगदीश मौर्या को गणतंत्र दिवस पे मिलेगा सिल्वर मेडल

सोनभद्र आयरन मैन की उपाधि प्राप्त एसओजी मे तैनात हेड कांस्टेबल जगदीश मौर्या को गणतंत्र दिवस पे मिलेगा सिल्वर मेडल। डीजीपी महोदय के द्वारा प्रशंसा चिन्ह का हुआ ऐलान। जिसमे एसओजी मे तैनात पुलिसकर्मी जगदीश मौर्या को सिल्वर मेडल से चुर्क पुलिस लाइन मे गणतंत्र दिवस के अवसर पे पुलिस अधीक्षक अमरेंद्र प्रसाद सिंह द्वारा सम्मानित किया जायेगा।

आपको बताते चले कि वाराणसी चोलापुर निवासी जगदीश मौर्या की पुलिस विभाग मे जाइनिंग 1994 मे हुआ था। जगदीश मौर्या 15 जुलाइ 1995 में डीआइजी आगरा रेंज द्वारा बेस्ट कैडेट घोषित हुआ था। 2 अगस्त 1995 मे उ प्र पुलिस ऐथिलैटिक प्रतियोगिता मे प्रथम स्थान प्राप्त किया था। इनको उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री रही मायावती द्वारा सम्मानित किया गया था।

अखिल भारतीय पुलिस उ प्र पुलिस टीम की तरफ से पटना बिहार मे पाचवा स्थान प्राप्त कर मुख्यमंत्री लालू प्रसाद यादव द्वारा सम्मानित किया गया। इसके बाद 1998 मे 13 वर्ष पुराने डेकाथलान पुलिस रिकार्ड को तोड़ कर अपने नाम किया था। मुख्यमंत्री रहे कल्याण सिंह द्वारा इनको उत्तर प्रदेश पुलिस का आयरन मैन घोषित किया गया था।

1998 में अखिल भारतीय पुलिस उ प्र पुलिस टीम की तरफ चैन्नई मद्रास में छठा स्थान प्राप्त कर मद्रास के वर्तमान गृहमंत्री द्वारा सम्मानित किया गया था। इनकी उपलब्धियो का सिलसिला लगातार जारी रहा 2000 में उत्तर प्रदेश पुलिस मे डेकाथलान व 110 मीटर बाधा दौड़ मे मुख्यमंत्री रहे राजनाथ सिंह द्वारा कांस्य पदक प्राप्त कर सम्मानित किया गया था। 2001 में अखिल भारतीय पुलिस उ प्र पुलिस टीम की तरफ जालांधर पंजाब मे पाँचवा स्थान प्राप्त कर पंजाब के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिन्दर सिंह द्वारा सम्मानित किया गया था।

2003 मे उ प्र पुलिस ऐथिलैटिक प्रतियोगिता मे डेकाथलान व 110 मीटर बाधा दौड़ मे मुख्यमंत्री रहे मुलायम सिंह यादव द्वारा सिल्वर मेडल से सम्मानित किया गया था। 2003 मे अखिल भारतीय पुलिस उ प्र पुलिस टीम की तरफ से कोलकाता मे 110 मीटर बाधा दौड़ मे चौथा स्थान प्राप्त कर मुख्यमंत्री ममता बनर्जी द्वारा सम्मानित किया गया। 26 वर्ष के अवधि मे उत्तर प्रदेश पुलिस के 3 मुखिया व 17 एडीजी व 27 डीआइजी,26 एसएसपी महोदय द्वारा सम्मान प्राप्त किया जा चुका है। एसओजी मे रहते हुये कइ बड़ी घटनाओ का सफल अनावरण करने मे इनका बड़ा योगदान रहा है।

इन्होने अपनी सफलता को अपने माता पिता को समर्पित करते हुए कहा के
“सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है”
“बुलंदियों का बड़े से बड़ा मुकाम छुआ
उठाया गोद में माँ ने तब आसमान छुआ”

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
ओबरा घोरावल एसडीएम रहे जैनेंद्र सिंह का हुआ गैर जनपद तबादला जितेंद्र कुमार ने छात्रा के अपहरण के 3 आरोपी को गिरफ्तार कर अपहृता किया बरामद 42 गांव के 62 लाभार्थियों को विधायक व उपजिलाधिकारी ने वितरित की घरौनी बिजली की चपेट में आकर बालक हुआ अचेत, भर्ती पुलिस अधीक्षक के परिक्षेत्र अयोध्या स्थानान्तरण पर दी गयी भावभीनी विदाई शांतिभंग में पांच लोग चालान प्रदीप सिंह चंदेल ने एनसीएल अधिकारियो के साथ मीटिंग कर मानसून मे होने वाले ओबी स्लाइडिंग रोकने के लि... शक्तिनगर पुलिस ने चोरी के दो आरोपी को गिरफ्तार कर किया चालान यशवीर सिंह बने सोनभद्र के नये पुलिस अधीक्षक महारानी दुर्गावती का मनाया गया बलिदान दिवस