सोनभद्र

नवीन कार्य क्षेत्र में कार्यभार नही ग्रहण करने पर वन रक्षक का वेतन रोकने की होगी कार्यवाही

दुद्धी / सोनभद्र। रेनुकूट वन प्रभाग के बघाडू वन रेंज के एक वन रक्षक का कार्य क्षेत्र अनपरा बदले जाने के बाद भी रेंज में ही जमे रहने को लेकर डी एफ ओ ने वेतन रोकने के आदेश रेंजर रूप सिंह को दिए हैं।डी एफ ओ रेनुकूट एम पी सिंह से दूरभाष पर हुई वार्ता में उन्होंने कहा कि कार्यक्षेत्र में बदलाव किए गए रेंज में नही कार्यभार ग्रहण करने पर अंतिम चेतावनी देते हुए कहा है कि 24 जनवरी तक अगर नए रेंज में कार्यभार ग्रहण नही करते हैं तो वेतन रोकने की कार्यवाही करने के आदेश रेंजर बघाडू को दिए गए हैं। बताया कि कार्यक्षेत्र में बदलाव किए गए वन रक्षक के जिम्मे कुछ काम अधूरे थे जिसे मीटिंग में जल्द पूरा कराने के निर्देश दिए गए हैं। उन्होंने कहा कि अगर 24 जनवरी तक कार्य पूर्ण करके नए रेंज में कार्यभार ग्रहण नही करते हैं तो वेतन रोक दी जाएगी।
रेंजर रूप सिंह ने बताया कि सप्ताह भर के अंदर वेतन रोकने की संस्तुति कर दी जाएगी।

बता दें कि दिसम्बर महीने में ही तीन वन रक्षकों के कार्य क्षेत्र में बदलाव किया गया था जिसमें दो लोगों ने तो अपने नए रेंज में कार्यभार ग्रहण कर लिया लेकिन कार्य क्षेत्र बदले जाने के पखवाड़े भर बाद भी बघाडू रेंज के वन रक्षक साहब रेंज में ही जमे हैं जिसे लेकर क्षेत्र में चर्चाओं का बाजार गर्म है।
सूत्रों की मानें तो कार्य क्षेत्र में बदलाव से वन रक्षक खुश नहीं है क्योंकि बघाडू जैसे मलाईदार रेंज अपने हाथ से जाते देख कई जुगाड़ लगा चुके हैं और लगातार डी एफ ओ कार्यालय से सम्पर्क में बने हुए हैं।जिससे इस बात की चर्चा जोर पकड़ने लगी है कि आखिर डी एफ ओ साहब अपने ही आदेश का पालन क्यों नहीं करा पा रहे हैं।किसी का दबाव है या और कोई अन्य बात —– यह लोगो के समझ से परे हैं।

वन रक्षक के कार्यमुक्त को लेकर डी एफ ओ और रेंजर आमने सामने, एक दूसरे पर मड़ रहे जबाबदेही

दुद्धी। रेनुकूट वन प्रभाग के बघाडू रेंज से एक वन रक्षक के कार्यक्षेत्र में बदलाव अधिकारियों की कार्यशैली को लेकर चर्चा में है।कार्य क्षेत्र में बदलाव के एक पखवाड़े भर बाद भी रेंज से न जाना सवाल खड़े कर रहा है।
जबकि डी एफ ओ का कहना है कि रेंजर कार्यमुक्त नही कर रहे हैं और उधर रेंजर का कहना है कि डी एफ ओ साहब कुछ दिन के लिए रोके हैं।यह बात करीब पखवाड़े भर चल रही हैं ।जिस तरह जिम्मेदार अधिकारियों के बयान आ रहे हैं उससे इस बात की चर्चा है कि आखिर डी एफ ओ खुद अपनी आदेश को रोके हैं या रेंजर कार्यमुक्त नही कर रहे हैं।यह सवाल लोगों के बीच गूंज रहा है।

Md.shamim Ansari

मु शमीम अंसारी कृषि स्नातकोत्तर (प्रसार शिक्षा/जर्नलिज्म) इलाहाबाद विश्वविद्यालय (उ.प्र.)

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
म्योरपुर कस्बे का मूल्यांकन कर शासन को जल्द भेजी जाएगी रिपोर्ट- तहसीलदार बृजेश कुमार वर्मा भीम आर्मी के संस्थापक चन्द्रशेखर आजाद के जन्मदिन के अवसर पर भीम आर्मी के जिलाध्यक्ष ने मरीजो को बांट... सम्पूर्ण समाधान दिवस में 25 में 5 मामलों का मौके पर निस्तारण दुद्धी को जिला बनाए जाने को लेकर अधिवक्ताओं ने किया प्रदर्शन कायाकल्प योजना की टीम ने सीएचसी दुद्धी का किया निरीक्षण स्वस्थ समाज के निर्माण के लिए पुस्तकों का अध्ययन आवश्यक - एसएन सिंह पावर सेक्टर के निजीकरण पर लगे रोक -वर्कर्स फ्रंट अधिवक्ता दिवस के रूप में मना डॉक्टर राजेंद्र प्रसाद का जन्मदिवस महात्मा गांधी काशी विद्यापीठ में गीता जयंती की पूर्व संध्या पर संगोष्ठी का हुआ आयोजन करंट की जगह चपेट में आने से युवक की मौत
Download App