सोनभद्र

विद्युत कर्मचारियों के लिए वर्कर्स फ्रंट की अपील

सोनभद्र। 18 अगस्त को विद्युत कर्मचारी संगठनों द्वारा विद्युत संशोधन विधेयक 2020 और पूर्वांचल विद्युत वितरण निगम के निजीकरण के खिलाफ जो विरोध आयोजित किया गया है वर्कर्स फ्रंट उसका पूरी ताकत से समर्थन करता है।

वर्कर्स फ्रंट का यह स्पष्ट मानना है कि वित्तीय पूंजी के सक्रिय सहयोग से आरएसएस और भाजपा की सरकार भारतीय अर्थ नीति का पुनर्संयोजन कर रही है और देशी-विदेशी कारपोरेट घरानों के हितों को पूरा करने के लिए देश की राष्ट्रीय संपत्ति को बेचने में लगी हुई है। इसी दिशा में बिजली, कोयला, रेल, बैंक, बीमा बीएसएनएल, भेल समेत तमाम सार्वजनिक उद्योग जो पिछले 70 सालों में विकसित हुए और जिनके जरिए आम जनमानस को बड़े पैमाने पर राहत पहुंचाई गई उसका निजीकरण किया जा रहा है। यहां तक कि हमारे महत्वपूर्ण खनन स्रोत तेल आदि को भी बेचा जा रहा है। कौन नहीं जानता की पूर्ववर्ती सरकार की ऐसी ही निजीकरण की लूट भरी योजनाओं में हुए भारी भ्रष्टाचार के कारण पैदा जनाक्रोश का लाभ उठाते हुए आरएसएस और भाजपा की सरकार 2014 में सत्ता में आई थी और आज वह इसे और भी जोर शोर से अंजाम दे रही है।

इन्हीं स्थितियों में बिजली क्षेत्र का भी निजीकरण इस सरकार का महत्वपूर्ण एजेंडा बना हुआ है। कारपोरेट की चाकरी की हद यह हो गई कि कर्मचारियों और जनता के आक्रोश का सामना न करना पड़े इसलिए चोर दरवाजे से चुपचाप भारत सरकार के ऊर्जा मंत्री ने लखनऊ का जुलाई माह में दौरा किया और निजीकरण की दिशा में चीजों को बढ़ाने का काम किया। इसे ट्रेड यूनियन नजरिए से महज नौकरशाही की करतूत मानना भारी भ्रम होगा और कर्मचारियों को इससे सावधान रहना होगा।

हम आपसे अपील करना चाहते हैं कि बिजली के निजीकरण के सवाल को आरएसएस-भाजपा के कारपोरेट हितों को पूरा करने के संपूर्ण प्रोजेक्ट के बतौर देखना और इसके अनुरूप अपने आंदोलन की रणनीति तय करना वक्त की जरूरत है। हम यह भी अपील करते हैं कि सिर्फ फैक्ट्रियों के गेट और कार्यालयों के बाहर सांकेतिक आंदोलन का दौर खत्म हो गया है। इसलिए हमें निजीकरण के परिणाम स्वरूप जनता को होने वाले अहित व नुकसान के बारे में बड़े पैमाने पर जन संवाद कायम करना होगा और निजीकरण के सवाल को एक बड़ा राजनीतिक प्रश्न बनाना होगा, इसके लिए राजनीतिक गोलबंदी करनी होगी। हमें इन जनविरोधी व राष्ट्र विरोधी नीतियों को लागू करने वाली आरएसएस-भाजपा की सरकार को सत्ता से हटा देने के लिए खुद को और जनता को तैयार करना होगा ताकि निजीकरण के रोड रोलर की दिशा को बदला जा सकें।

Md.shamim Ansari

मु शमीम अंसारी कृषि स्नातकोत्तर (प्रसार शिक्षा/जर्नलिज्म) इलाहाबाद विश्वविद्यालय (उ.प्र.)

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
म्योरपुर ब्लॉक के आश्रम मोड मुर्धवा के बीच की सड़क होगी चौड़ी आश्रम मोड़ से आरवाई सिंह घाटी और जमतिहवा नाला तक सड़क चौड़ीकरण होगा। बिना मान्यता के स्कूल चलाने वालों की अब खैर नही-खण्ड शिक्षा अधिकारी इन्हरव्हिल क्लब दुद्धी द्वारा बच्चों को किया गया बैग वितरण रन्नू गांव में सड़क लेबल से नीचे बना बिना ढक्कन का नाली, हादसे का डर आकांक्षी जनपद के बावजूद शिक्षा-स्वास्थ्य सुविधाएं लचर पूर्व छात्रसंघ अध्यक्ष के निधन से शोक की लहर उदयपुर घटना और जुमा की नमाज को लेकर प्रदीप सिंह चंदेल ने अनपरा मे फुट मार्च कर आपसी सौहार्द बनाये रख... दुष्कर्म के दोषी संदीप को उम्रकैद की सजा बजरग दल ने आतंकवाद का पुतला फूंका