प्रदेश

समानता एकता और प्रेम का प्रतीक पर्व है होली अशोक विश्वकर्मा

चकिया विश्वकर्मा समाज द्वारा आल इंडिया यूनाइटेड विश्वकर्मा शिल्पकार महासभा के तत्वावधान में होली के रंग ,अपनों के संग कार्यक्रम में आज सायंकाल दीरेहु स्थित गुरुदेव वाटिका लान में रंगारंग काव्य संध्या एवं होली मिलन समारोह संपन्न हुआ । समारोह को संबोधित करते हुए मुख्य अतिथि राष्ट्रीय अध्यक्ष अशोक कुमार विश्वकर्मा ने कहा होली समानता एकता एवं असीम प्रसन्नता वाला प्रेम का प्रतीक पर्व है ।प्रहलाद की भक्ति अडिग विश्वास और दृढ़ संकल्प की शक्ति तथा सद्मार्ग के प्रति समर्पण का संदेश देता है। उन्होंने कहा छोटी-छोटी महत्वाकांक्षाओं तथा निजी स्वार्थ की पूर्ति के लिए परस्पर प्रतिस्पर्धा ईर्ष्या द्वेष एवं अहंकार की भावना से जीवन पतित और कलुषित हो जाता है । इसलिए हमें सिर्फ दिखावे के बाहरी रंगों से जीवन को सराबोर नहीं करना चाहिए अपितु प्रेम त्याग सत्य शांति और निष्ठा के पवित्र सुंदर रंगों से जीवन के अंतर को आलोकित करना चाहिए क्योंकि होली परस्पर कटुता को प्रेम के रंगों से धो देने का पवित्र पर्व है। हमें अपने छोटे-छोटे स्वार्थ और अहंकार को त्याग कर सबको समानता एकता और भाईचारा से ओतप्रोत स्नेह के रंग में रंग देना चाहिए तभी होली की सार्थकता है। विशिष्ट अतिथि डॉ राम किशोर शर्मा बेहद जी ने कहां होली का अर्थ है दोस्त बनाना दुश्मन नहीं जीवन की अनेक कठिनाइयों के बावजूद भी हमें भेदभाव और मानवता की भावना का त्याग नहीं करना चाहिए क्योंकि इस इस पर्व का पर्याय भाईचारा की पवित्र भावना का संदेश है । इस अवसर पर आयोजित काव्य संध्या को भोजपुरी भाषा के जनकवि विश्वकर्मा कुल गौरव श्रद्धेय राम जियावन दास बावला को समर्पित करते हुए स्थानीय मूर्धन्य कवियों ने समानता एकता प्रेम एवं देश भक्ति से संबंधित एक से एक मनमोहक रचना तथा बावला जी द्वारा रचित फाग और चैता गीत प्रस्तुत कर उपस्थित लोगों को भाव विभोर कर दिया। कार्यक्रम के आरंभ में सभी लोग एक दूसरे को अबीर गुलाल लगाकर तथा गले मिलकर शुभकामनाएं व्यक्त की तथा मुख्य अतिथि एवं विशिष्ट अतिथि को अंगवस्त्रम व स्मृति चिन्ह भेंट कर सम्मानित किया गया ।काव्य पाठ करने वाले कवियों में प्रमुख रूप से सर्वश्री डॉक्टर ओम प्रकाश शर्मा आलियार प्रधान संतोष कुमार धूर्त राजेंद्र प्रसाद भंवर हरिवंश सिंह बवाल बंधु पाल बंधुतथा बहादुर विश्वकर्मा ने साथियों के साथ लोकगीत प्रस्तुत किया। कार्यक्रम की अध्यक्षता सेवानिवृत्त फौजी श्याम लाल विश्वकर्मा ने तथा संचालन राजेश विश्वकर्मा राजू कवि ने किया। उपस्थित लोगों में प्रमुख रूप से सर्वश्री श्रीकांत विश्वकर्मा डॉ प्रमोद कुमार विश्वकर्मा श्याम बिहारी विश्वकर्मा राम किशुन विश्वकर्मा सुरेश विश्वकर्मा दीनदयाल विश्वकर्मा विजय विश्वकर्मा पत्रकार श्रीमती अनीता विश्वकर्मा श्रीमती मीना विश्वकर्मा शारदा विश्वकर्मा सोम लता विश्व भैरव विश्वकर्मा विजय नारायण विश्वकर्मा विजेंद्र विश्वकर्मा विष्णु शर्मा राम अवतार विश्वकर्मा सुरेश शर्मा बहादुर विश्वकर्मा पारसनाथ विश्वकर्मा अजय विश्वकर्मा प्रेम अवधेश विश्वकर्मा दिनेश विश्वकर्मा गोविंद विश्वकर्मा कालिका विश्वकर्मा राहुल विश्वकर्मा आशुतोष विश्वकर्मा जितेंद्र विश्वकर्मा नंदलाल विश्वकर्मा रिंकू विश्वकर्मा डॉक्टर ईश्वर चंद विश्वकर्मा अमरेश विश्वकर्मा जय नारायण विश्वकर्मा आशुतोष विश्वकर्मा राम दुलारे विश्वकर्मा महेंद्र विश्वकर्मा श्याम नारायण विश्वकर्मा गायक कलाकार अखिलेश विश्वकर्मा धर्मेंद्र विश्वकर्मा सहित बड़ी संख्या में लोग उपस्थित थे।

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
ओबरा घोरावल एसडीएम रहे जैनेंद्र सिंह का हुआ गैर जनपद तबादला जितेंद्र कुमार ने छात्रा के अपहरण के 3 आरोपी को गिरफ्तार कर अपहृता किया बरामद 42 गांव के 62 लाभार्थियों को विधायक व उपजिलाधिकारी ने वितरित की घरौनी बिजली की चपेट में आकर बालक हुआ अचेत, भर्ती पुलिस अधीक्षक के परिक्षेत्र अयोध्या स्थानान्तरण पर दी गयी भावभीनी विदाई शांतिभंग में पांच लोग चालान प्रदीप सिंह चंदेल ने एनसीएल अधिकारियो के साथ मीटिंग कर मानसून मे होने वाले ओबी स्लाइडिंग रोकने के लि... शक्तिनगर पुलिस ने चोरी के दो आरोपी को गिरफ्तार कर किया चालान यशवीर सिंह बने सोनभद्र के नये पुलिस अधीक्षक महारानी दुर्गावती का मनाया गया बलिदान दिवस