सिंगरौली

दयानंद की जयंती मनाई गई

बीजपुर/सोनभद्र (विनोद गुप्त) डी ए वी पब्लिक स्कूल रिहंद में राष्ट्र चेतना के उन्नायक, समाजोद्धारक , महान संन्यासी दयानंद सरस्वती की जन्म जयंती पर यज्ञ का आयोजन कर गुरुकुल
ने स्वामी जी के जीवन कर्मों का स्मरण करते हुए विद्यार्थियों को नए भारत का निर्माण करने के
लिए प्रेरित किया।अपने संबोधन में प्राचार्य राजकुमार ने संन्यासी दयानंद के जीवन कर्मों के विविध संदर्भों से व्याख्या करते हुए कहा कि मानवता की सेवा का संकल्प और व्रत लेकर जीवन में आगे बढ़ने वालों के लिए स्वामी दयानंद का जीवन चरित्र वह सुलभ
संजीवनी है जो व्यक्ति को जीते जी अमरत्व
प्रदान कर देती है।हिंदी विभागाध्यक्ष साहित्यकार
डा दिनेश दिनकर ने स्वामी जी के अखंड व्यक्तिव की चर्चा करते हुए कहा कि भारत में राष्ट्र चेतना
का शंखनाद करने वाले निर्भीक संन्यासी दयानंद का जीवन चरित्र सदियों तक देशभक्ति के विशाल
प्रजातंत्र को उसकी सांस्कृतिक विरासत का स्मरण कराता रहेगा।मुख्य यजमान अभिभावक
पयाग सिंह ने डी ए वी के संस्कारों की सराहना करते हुए विद्यार्थियों से नैतिकता के मार्ग पर चलने की अपील की। इस अवसर पर छात्राओं ने अपने सुमधुर समूह गान ‘ हम दयानंद की कथा सुनाते हैं …तथा वह महान संन्यासी था ..की प्रस्तुति से सबका मन मोह लिया।बच्चो अपने ओजस्वी भाषण से अपनी अभिव्यक्ति कौशल का परिचय दिया।धर्म शिक्षिका गीता चतुर्वेदी ने यज्ञ कराया।आर के झा, भूपाल सिंह, राजेश श्रीवास्तव, एम के पांडेय, पी एन सिंह, बी आर शर्मा, समता सिंह आदि शिक्षक – शिक्षिकाओं के साथ विद्यार्थियों ने यज्ञ में आहुतियां डाल कर विश्व मंगल की कामना की।समापन शांति पाठ से किया गया।

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
श्रीराम कथा के अंतिम दिन रावण बध लँका पर विजय अयोध्या वापसी के बाद जश्न में डूबे श्रोता डीजे के साथ शांतिपूर्ण माहौल में विसर्जित हुई मां दुर्गा की प्रतिमाएं बकरिहवाँ में अधर्म पर धर्म की विजय राम ने किया रावण वध अधर्म पर धर्म की विजय राम ने किया रावण का वध घर की बढेर से लटकता मिला वृद्धा का शव बलिया शहर कोतवाल प्रवीण सिंह भारी बरसात में भीगते हुये वर्दी का फर्ज निभा श्रद्धालुओं की मदद करते नज... नौ कन्या पूजन, हवन पूर्णाहुति के साथ नवरात्रि अनुष्ठान हुआ सम्पन्न चोरों ने दो खड़े ट्रैक्टर से गायब किये बैटरी पिपरी में भव्य गरबा कार्यक्रम की रही धूम आदि शक्ति सिद्धिदात्री की प्रतिमा की हुई प्राण प्रतिष्ठा