प्रदेश

सोनभद्र में तैनात रहे इंस्पेक्टर विनोद यादव बने डीएसपी

हमीरपुर (नौशाद अन्सारी) सोनभद्र में तैनात रहे इंस्पेक्टर विनोद यादव बने डीएसपी। आम जनमानस में सौम्य स्वाभाव के अपने कर्तव्य के प्रति ईमानदार और वर्दी का खौफ आम जनता से मिटाकर निस्वार्थ सेवा से काम करने वाले विनोद यादव कम समय में जो शोहरत पायी है वो काबिलेतारीफ है। आज विनोद यादव किसी परिचय के मोहताज नही है कहते है न प्रतिभा किसी परिचय का मोहताज नही होता है। यही बाते लागु होती है तेज तर्रार पुलिस आफिसर विनोद यादव पे। उनके उपर किसी भी प्रकार का दबाब काम नहीं करता है।इंसाफ पसन्द व सरल स्वाभाव के विनोद यादव कहते हैं के दुर्दांत अपराधियों का अंत करना और पीड़ित को न्याय के लिए अपराधियों को न्यायालय तक पहुचाना ही वर्दी पहनने का मुख्य मकसद है। इन्होने अपने कार्यकाल में अपने विभाग के प्रति उत्तरदायित्व का बखूबी निर्वहन किया है।

आपको बताते चले के जौनपुर बदलापुर निवासी विनोद यादव की पुलिस विभाग में जाइनिंग 2001 मे एसआइ के पद पे हुइ थी। 2012 मे विनोद यादव आउट आफ टर्न पाकर इंस्पेक्टर बने थे। ये सोनभद्र मे शक्तिनगर, दुद्धी एसएचओ सहित लखनऊ, लखीमपुर खीरी, सीतापुर, इटावा, कानपुर नगर मे अपनी सेवा दे चुके हैं।वर्तमान मे हमीरपुर मे एसपी आफिस मे तैनात है। विनोद यादव के भैया और भाभी अपर जिला जज हैं। विनोद यादव की पत्नी प्रवक्ता हैं। विनोद यादव कई आपराधिक गैंग के विरुद्ध सक्रिय रहकर उन का सफाया करने के कारण चर्चित रहे थे। विनोद यादव के डीएसपी बनने के बाद लोगो का बधाइयाँ देने का सिलसिला जारी है।

इन्होंने अपनी सफलता को अपने माता पिता को समर्पित करते हुए कहा के
“सख्त राहों में भी आसान सफ़र लगता है
ये मेरी माँ की दुआओं का असर लगता है”
“बुलंदियों का बड़े से बड़ा मुकाम छुआ
उठाया गोद में माँ ने तब आसमान छुआ”

Related Articles

Back to top button
BREAKING NEWS
बांसडीह एसएचओ राजीव मिश्रा ने विभिन्न मुकदमो मे बरामद जब्त भारी मात्रा मे अवैध शराब किया नष्ट अतिक्रमण हटाने के फरमान से फुटकर व्यवसाईयों में हड़कम्प संविधान पर बुलडोजर नही चलेगा-भाकपा माले दुद्धी पुलिस द्वारा की गयी सघन काम्बिंग कार्यकारी निदेशक सीएसआर ने बालिका सशक्तिकरण के बालिकाओं से रूबरू होकर बढ़ाया मनोबल प्रधान मंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट नमामीगंगे के साइट से करोड़ों की पाइप चोरी , हड़कम्प बजट में आदिवासियों के लिए कुछ नहीं- आइपीएफ घनश्याम हत्याकांड: दोषी मुंशी कोल को 8 वर्ष की कैद आपरेशन पताल लोक के तहत श्रीकांत राय ने गैंग ने आरोपी को तमंचा कारतूस के साथ गिरफ्तार कर भेजा जेल आपरेशन पताल लोक के तहत मिथिलेश मिश्रा ने गैंग लीडर के सदस्य को तमंचा कारतूस के साथ गिरफ्तार कर भेजा ...