Close

अधिवक्ताओं ने दुद्धी को जिला बनाने की आवाज की बुलन्द

जनपद दौरे पर आये मुख्यमंत्री से चुनावी वादा पूरी करने की मांग की

दुद्धी,सोनभद्र- जिला बनाओ संघर्ष मोर्चा ने लाकडाउन के बाद शनिवार को जिला बनाओ विकास कराओ की जोरदार आवाज बुलंद की। अधिवक्ताओं ने न्यायिक कार्य से विरत रहकर कोर्ट परिसर के मेन गेट पर जिला बनाओ विकास कराओ के नारे के साथ प्रदर्शन किया। वक्ताओं ने कहा कि सरकार ने चुनाव में वादा किया था कि सरकार में आते ही दुद्धी को जिला बनाना है।लेकिन आज तक वादा खोखला ही साबित हुआ है। जनपद सोनभद्र के कैमूर पर्वत के दक्षिण भाग जो जिला दुद्धी जिला के लिए प्रस्तावित है, इसके अंतिम छोर की दूरी जिला मुख्यालय से 150 से 200 किलोमीटर है। जनपद को मध्यप्रदेश, छत्तीसगढ़ व झारखंड की सीमाएं स्पर्श करती हैं। दुद्धी तहसील के 305 राजस्व ग्राम 84 तथा नवसृजित ओबरा तहसील के 84 राजस्व ग्राम सम्मलित है। तहसील के अंतर्गत 14 थाना तथा 5 विकास खंड कार्यालय कार्यरत है।

आबादी 14 लाख तथा क्षेत्रफल 3380 किलोमीटर है। दुरूह क्षेत्र होने के साथ-साथ यहां प्राकृतिक संसाधनों की प्रचुरता है। शासकीय तथा गैर शासकीय राष्ट्रीय स्तर की कई फैक्ट्रियां हैं। देश की विद्युत आवश्यकताओं का 10% उत्पादन इसी क्षेत्र से होता है। शामली में 284, बागपत 287,हापुड़ में 331तथा गौतमबुध नगर में 381 राजस्व ग्राम होने के बाद भी जिले का दर्जा दे दिया गया।लेकिन दुद्धी को घोषणा के बाद भी जिला नही बनाया गया।ओबरा को तहसील, कोन को ब्लाक समेत कई नए थाने बनाये जाने के बाद भी दुद्धी को जिला घोषित न कर सरकार द्वारा वादाखिलाफी की जा रही हैै। वक्ताओं ने कहा कि मुख्यमंत्री जी का रविवार को जनपद दौरा है।संघर्ष समिति का प्रतिनिधिमंडल उनसे मुलाकात कर,चुनावी वादा अनुसार दुद्धी को जिला बनाने की मांग करेगी। इस अवसर पर जितेन्द्र श्रीवास्तव, नागेंद्र श्रीवास्तव, रामपाल जौहरी,विपिन बिहारी, प्रभु सिंह कुशवाहा,रमेश कुशवाहा,आनंद गुप्ता, संतोष कुमार,आशीष गुप्ता, दिनेश ,उमेश चंद सहित सैकड़ो अधिवक्ता मौजूद रहे।

फोटो कैप्सन- कचहरी के गेट पर प्रदर्शन करते अधिवक्ता

भीम जायसवाल सोनभद्र के दुद्धी निवासी है।कुछ कर गुजरने की ललक के कारण आज जिले की पत्रकारिता मे एक जाना पहचाना नाम है।

BREAKING NEWS
scroll to top